मोरपेन लैब के शुद्ध लाभ में 179 फीसदी की वृद्धि

On 01/05/2017    | Time: 20:59:45 PM | Source: IANS | Visits: 39



नई दिल्ली, 1 मई (आईएएनएस)। मोरपैन लेबोरेटरी लिमिटेड ने कहा है कि उसने 2016-17 वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में शुद्ध लाभ में 179 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की है और यह 7.73 करोड़ रुपये तक पहुंच गई है। इस अवधि में कंपनी की शुद्ध बिक्री से प्राप्त राजस्व (नेट सेल्स रेवेन्यू) में 17.4 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और यह 141 करोड़ रुपये तक पहुंच गई है।



कंपनी ने एक बयान में कहा कि वित्त वर्ष 2015-16 की चौथी तिमाही में कंपनी का नेट प्रॉफिट और नेट सेल्स रेवेन्यू क्रमश: 2.77 करोड़ रुपये और 119.77 करोड़ रुपये दर्ज किया गया था।



2016-17 की चौथी तिमाही में कंपनी की दुनिया के अन्य देशों तक बढ़ती पहुंच ने कंपनी को उच्च राजस्व प्राप्त करने में मदद की। चौथी तिमाही में निर्यात के माध्यम से होने वाली बिक्री (एक्सपोर्ट सेल्स) में 29 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और यह 73 करोड़ रुपये तक पहुंच गई। घरेलू परिचालन से दवाइयों की बिक्री में 7 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और यह 68 करोड़ रुपये रही।



मोरपेन लेबोरेटरीज लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक सुशील सूरी ने कहा, "कंपनी का लगातार ध्यान पिछला एकीकरण, अनुसंधान और दवाओं को बनाने में नवीनतम प्रक्रिया अपनाने पर रहा। इससे कंपनी को मार्केट में अपना पांव मजबूती से जमाने और नए मार्केट में निवेश करने के कंपनी के विजन को साकार करने में मदद मिली। इससे अब कंपनी के अनुकूल नतीजे भी दिखने लगे हैं।"



बल्क ड्रग्स (एपीआई सेगमेंट) की बिक्री इस अवधि में लगातार बढ़ी और इस सेग्मेंट ने कंपनी के कुल टर्नओवर में 67 फीसदी का योगदान दिया। मोरपैन लैब की सबसे ज्यादा बिकने वाली दवा लोराटाडीन ने 2016-17 की चौथी तिमाही में एक बार फिर कंपनी के विकास में एक्सिलरेटर का काम किया। चौथी तिमाही में लोराटाडीन की बिक्री में अकेले ही 54 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और यह 34.35 करोड़ रुपये तक पहुंच गई। चौथी तिमाही में कंपनी की बल्क ड्रग्स की बिक्री में 21 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और यह 94.35 करोड़ रुपये तक पहुंच गई।



डॉ. मोरपेन बास्केट, जो होम डायग्नोस्टिक की श्रेणी का प्रतिनिधित्व करती है, ने भी इस तिमाही में बेहतरीन प्रदर्शन किया। 2016-17 की चौथी तिमाही में इस श्रेणी में ब्लड ग्लूकोज मॉनिटर्स की बिक्री में सबसे अधिक 50 फीसदी का उछाल आया और यह 13.41 करोड़ रुपये तक पहुंच गई। इसके मुकाबले पिछले वित्त वर्ष में इसी अवधि के दौरान ब्लड ग्लूकोज मॉनिटर्स ने 8.94 करोड़ रुपये की बिक्री दर्ज की थी।



2016-17 के पूरे वित्तीय वर्ष के दौरान मोरपैन लैब के शुद्ध लाभ में 46 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज हुई और यह 23.04 करोड़ रुपये तक पहुंच गई, जबकि पिछले वित्तीय वर्ष की इसी अवधि में कंपनी ने 15.78 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था।



--आईएएनएस